पान के पत्ते के चमत्कारी उपाय| 100% काम आयेंगे!

0
मुझे सुनना है

पान खाने के शौकीनों को पान के पत्ते की खूबी भली भाँती पता है, परन्तु बहुत कम लोग इस पत्ते के धार्मिक महत्व को समझते हैं ऐसे में आज हम सभी को पान के पत्ते के चमत्कारी उपाय बताने वाले हैं।

पान के पत्ते के चमत्कारिक टोटके

इन टोटकों का विधिवत प्रयोग करने से जिन्दगी में आ रही किसी भी प्रॉब्लम से चुटकियों में छुटकारा पाया जा सकता है। मान्यताओं के अनुसार इस पत्ते में देवताओं का वास होता है और अनेक पौराणिक कहानियों में इसका जिक्र भी किया गया है।

समुद्र मंथन के दौरान भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए इस पत्ते का प्रयोग किया गया था तभी से इस पत्ते का महत्व आम लोगों के बीच बढने लगा। यही कारण है अनेक तरह के धार्मिक अनुष्ठानों में पान के पत्तों का पयोग किया जाता है।

तो अगर आप भी पान के पत्ते का उपयोग करके जीवन में चमत्कारिक लाभ पाना चाहते हैं तो इस लेख में बताई गई सभी बातें ध्यानपूर्वक पढ़ें जिससे जिन्दगी में बड़ा बदलाव आ सकता है।

5+ पान के पत्ते के चमत्कारी उपाय| देंगे समस्या का समाधान

क्या आप जानते हैं बुरी नजर, टोने टोटकों से लेकर व्यापार में तरक्की दिलाने में पान के पत्ते बेहद लाभदाई हो सकते हैं, और ये बात हम नहीं कह रहे हैं बल्कि स्वयं बड़े बड़े ज्योतिष और पंडित ये बात स्वीकार करते हैं।

इन्टरनेट पर कई ऐसी प्रमुख न्यूज़ साइट्स हैं जहाँ पान के पत्तों से जुड़े कई तरह के टोटके मिल जायेंगे। कोई आपको कहेगा फलानी विधि अपनाने से सफलता मिलेगी तो कोई कहता है की पान के पत्ते इस तरह चढाने से परेशानियों से मुक्ति मिलगी।

अब सवाल आता है की हममें और उन बाकी साइट्स में क्या अंतर है? देखिये, अंतर आपको तब मालूम होगा जब आप इन टोटकों का पूरा सच पढेंगे तो आइये जानते हैं उन सभी टोटकों का पर्दाफाश करते हैं।

#1. पान के पत्तों से पूरी होगी सारी इच्छाएं। 

जी हाँ, स्वयं को शास्त्रों का ज्ञाता कहने वाले अनेक लोग ये कहते आपको मिलेंगे जो कहते हैं मंगलवार या शनिवार के दिन प्रातःकाल उठकर हनुमान जी को पान का बीड़ा अर्पित करने से जिन्दगी के विभिन्न क्षेत्रों में सफलता मिलती है, बिगड़े काम बनते हैं और जिन्दगी खुशहाल होती है।

और ये खबर आपको तथाकथित बड़ी साइट्स में देखने को मिल जायेंगी, लेकिन इस टोटके को अपनाने से पूर्व हम आपसे यही कहेंगे की हनुमान जी हमसे कब खुश होंगे।

जब हम सच्चाई के रास्ते पर चलेंगे जिन्दगी में कोई भलाई का काम करेंगे या फिर जब हम अपनी इच्छा पूरी करके खुद को खुश करेंगे?

बताइए, भगवान हमसे तभी प्रसन्न होंगे न जब हम कोई सही काम करने की जिम्मेदारी उठायें। पर बहुत से लोग धर्म के नाम पर ऐसी बातें करते हैं जो बेबुनियादी हैं जिनके पीछे कोई तर्क नहीं है।

पढ़ें: जिन्दगी में सही काम क्या करें?

हनुमान जी को अपना गुरु कैसे बनाएं? ऐसे खुश होंगे हनुमंत

#2. बुरी नजर से बचाता है पान का यह चमत्कारी टोटका

मान्यता के अनुसार जिन लोगों को किसी की बुरी नजर लग जाती है, उन लोगों को पान के पत्ते से नजर उतारी जाए तो शीघ्र लाभ माना जाता है।

क्योंकि कहा जाता है देवी देवताओं के वास के कारण पान के पत्तों में पॉजिटिव एनर्जी होती है जो हर तरह की उपरी हवा,  टोने टोटके से मुक्ति दिलाती है।

हालाँकि इसी बात को यदि हम वैज्ञानिक नजरिये से देखें तो देखिये विज्ञान नहीं कहता की किसी ख़ास तरह के पौधे में पॉजिटिव या नेगेटिव एनर्जी होती है, अतः वे लोग जो हर बात के पीछे लॉजिक ढूंढते हैं उन्हें ये बात समझ में नहीं आएगी क्योंकि विज्ञान इसका समर्थन नहीं करता।

दूसरी तरफ यदि हम इस बात को धार्मिक नजरिये से देखें तो हिन्दू धर्म के केन्द्रीय ग्रन्थ हैं उपनिषद, और उपनिषद और भगवद्गीता दोनों को पढने पर आप पाएंगे की हमारे मूलग्रन्थों में न तो पान के पत्ते का जिक्र किया गया है और न ही किसी टोटके का। तो हम इस बात को धार्मिक नहीं मानते।

अतः चूँकि इस बात का कोई ठोस आधार नहीं है अतः इस बात को हम बस एक भ्रम या मान्यता कहेंगे इसको सच्चाई नहीं कहा जा सकता।

#3. पान के पत्ते का टोटका करेगा भोलेनाथ को प्रसन्न।

पान के पत्तों के इन्हीं टोटकों में आपको एक और बात पढने को या अपने आसपास ये सुनने को मिलेगी जिसमें ये कहा जाता है की यदि पान के पत्ते में कुछ आवश्यक तत्व जैसे गुलकंद, सुपारी का बुरादा, सौंफ और कत्था मिलाकर भगवान शिव को भेंट की जाए तो शिव जी बड़े खुश होते हैं।

वे लोग जो इस टोटके को अपनाते हैं उनकी जिन्दगी में शिव की कृपा बरसती है, रुके हुए, बिगड़े कार्य बनना आरम्भ हो जाते हैं जिन्दगी में रौनक आ जाती है।

हालाँकि इसी बात को जरा आप ईमानदारी से देखें और जानेंगे की शिव कौन हैं?*** तो फिर आप पाएंगे शिव तो सत्य है, अतः जो उनका भक्त होगा वो सच्चाई से प्रेम करेगा। शिव को नहीं मतलब हमारी कामनाओं से शिव खुद सभी कामनाओं से परे हैं।

तो भला पान को अर्पित कर देने से वो कौन सी कामनाएं पूरी करेंगे। एक बात समझिएगा धर्म का अर्थ इच्छाओं की पूर्ती करना नहीं होता, धर्म हमें सही जीवन जीने की सीख देता है?

#4. पान के इस टोटके से होगी व्यापार में तरक्की!

मार्किट में बहुत से ऐसे ज्ञानी बैठे हुए हैं जो कारोबरियों को ये सलाह देते हैं की अगर बिजनेस में सौ गुना तरक्की हासिल करनी है तो पीपल के पत्ते को धागे में पिरोकर उसे नदी में बहा देने से व्यापार में आ रही हर तरह की परेशानी से मुक्ति मिलेगी।

पर जरा भी आप ईमानदार होंगे, सच्चाई के प्रति आपके मन में थोडा प्रेम होगा तो आप कहेंगे जो मैं कर रहा हूँ इसका मेरे बिजनेस से क्या सम्बन्ध है? क्या ऐसा करने से मुझे किसी तरह का लाभ हो सकता है?

देखिये भगवान कभी भी ये नहीं कहते की तुम मेरी पूजा करो और मुझे खुश करने से तुम्हें बिजनेस में फायदा होगा?

मान लीजिये मैं एक जोहरी हूँ तो बताइए मुझे व्यापार में लाभ तब होगा न जब मैं अधिक से अधिक ग्राहकों को अपनी दुकान की तरफ लेकर आऊँ।

लेकिन अगर ऐसा नही हो रहा है तो मैं देखूंगा कहाँ मैंने व्यापार में कमी की है, और कैसे मैं कमी को सुधार सकता हूँ। तभी तो मुझे फायदा होगा न।

पर बिना इन बातों का ख्याल किये हम लालच के खातिर कुछ भी करने लगते हैं। अपनी बुद्धि का प्रयोग करना भूल जाते हैं।

#5. घर में हो रही अशांति और क्लेश मिटाएगा पान का पत्ता।

इसी प्रकार एक और मान्यता है जो कहती है की घर में सांस के साथ, पति के साथ और भाई भाई के बीच झगड़ा हो रहा है।

तो इस दिन पान के पत्ते को भगवान को अर्पित कर देने से या उस पत्ते को गंगा में प्रवाहित करने से जिन्दगी में सारी समस्या ठीक हो जाती हैं।

इस तरह की बातें सुनकर हमें तो यही लगता है की भगवान और धर्म को हमने बस अपनी इच्छा पूर्ती का साधन बनाया हुआ है, हम सोचते हैं हम पैदा हुए हैं इच्छा करने के लिए और भगवान हैं हमारी इच्छा पूर्ती के लिए।

हम ये भूल ही जाते हैं की धर्म इसलिए है ताकि हम समझ सके की माया किस तरह इन्सान को इच्छाओं के फेर में फंसाती है, किस तरह हम मायाजाल से निकल कर भवसागर को पार कर सके।

हम सच्चाई को जानना ही नहीं चाहते हम जानते ही नहीं की भगवान ने बुद्धि इसलिए दी है ताकि हम इसका इस्तेमाल करके अपनी परेशानियों को हल कर सके बल्कि इसके बजाय हम इस बुद्धि को ही अपने नाश के लिए इस्तेमाल करते हैं।

पढ़ें: जीवन का अंतिम सत्य क्या है? हमें जीवन क्यों मिला है?

अंधविश्वास क्या है | क्यों पढ़े लिखे लोग भी अन्धविश्वासी होते हैं?

अंतिम शब्द  

तो साथियों पान के पत्ते के चमत्कारी उपाय पढने के बाद अगर मन में अभी भी कोई कामना बची हुई है तो आप अपने सवालों को 8512820608 whatsapp नम्बर पर शेयर करें। साथ ही लेख उपयोगी साबित हुआ है तो इसे अधिक से अधिक शेयर भी कर दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here